logo In the service of God and humanity
Stay Connected
Follow Pujya Swamiji online to find out about His latest satsangs, travels, news, messages and more.
H.H. Pujya Swami Chidanand Saraswatiji | | Pujya Swamiji Meets with Hon’ble Chief Minister Uttarakhand Shri Pushkar Singh Dhami
35027
post-template-default,single,single-post,postid-35027,single-format-standard,theme-hudsonwp,edgt-core-1.0.1,woocommerce-no-js,ajax_fade,page_not_loaded,,hudson-ver-2.0, vertical_menu_with_scroll,smooth_scroll,side_menu_slide_from_right,woocommerce_installed,blog_installed,wpb-js-composer js-comp-ver-5.4.5,vc_responsive

Pujya Swamiji Meets with Hon’ble Chief Minister Uttarakhand Shri Pushkar Singh Dhami

Apr 12 2022

Pujya Swamiji Meets with Hon’ble Chief Minister Uttarakhand Shri Pushkar Singh Dhami

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और श्री पुष्कर सिंह धामी जी की हुई भेंटवार्ता
एचडीएफसी और परमार्थ निकेतन मिलकर करेंगे देढ़ लाख पौधों का रोपण
हमारा उत्तराखंड – हरित उत्तराखंड
स्वामी चिदानन्द सरस्वती

12 अप्रैल, ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड श्री पुष्कर सिंह धामी जी की देहरादून में भेंटवार्ता हुयी। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने माननीय मुख्यमंत्री जी को श्रीमद भगवत गीता की रिकॉर्डिंग ऑडियो कृति भेंट करते हुये कहा कि आप एक कर्मठ और कर्मयोगी योद्धा की तरह राज्य की समृद्धि और विकास हेतु निरंतर कार्य कर रहें है और आप युवाओं के प्रेरणास्रोत है।

श्रीमद भगवद गीता आॅडियो कृति के माध्यम से भगवत गीता के दिव्य श्लोकों और संदेशों को कहीं भी और कभी भी सुना जा सकता है। भगवत गीता के माध्यम से भगवान श्री कृष्ण के संदेश उत्तराखंड और पूरे देश की समृद्धि और विकास के लिये माननीय मुख्यमंत्री जी के जीवन में रचा-बसा रहे ऐसी माँ गंगा से प्रार्थना।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि भगवत गीता का संदेश सब के लिये है और सदा के लिये है। यह केवल बाहर की नहीं बल्कि भीतर की समृद्धि का मार्ग भी प्रशस्त करता हैं। योगः कर्मसु कौशलम् अर्थात योग की इस पावन धरती पर कर्मों की कुशलता ही योग है। जिस प्रकार कर्मयोग के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री जी उत्तराखंड के विकास में लगे हुये हैं उसकी भूरि-भूरि प्रशन्सा करते हुये उन्हें परमार्थ निकेतन गंगा आरती में सहभाग हेतु आमंत्रित किया।

स्वामी जी ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी युवा हृदय के सम्राट है और यह यात्रा विराट तक पहंुचेगी, इससे उत्तराखंड ही नहीं पूरा राष्ट्र लाभान्वित होगा क्योंकि उत्तराखंड चारों धामों का राज्य है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने श्री अरविंद वोहरा एचडीएफसी बैंक में ग्रुप हेड, कंट्री हेड – रिटेल ब्रांच बैंकिंग और पूरी टीम की प्रशन्सा करते हुये कहा कि एचडीएफसी बैंक और परमार्थ निकेतन दोनों मिलकर देढ़ लाख पौधोेें का रोपण उत्तराखंड राज्य में करेंगे ताकि हमारा प्यारा उत्तराखंड हरित उत्तराखंड हमेशा बना रहे।

श्री अरविंद वोहरा एचडीएफसी बैंक में ग्रुप हेड ने कहा कि परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के मार्गदर्शन, नेतृत्व और आशीर्वाद से परमार्थ निकेतन से मिलकर पूरे उत्तराखंड में पौधों का रोपण करेंगे। परमार्थ निकेतन के सहयोग से पर्यावरण संरक्षण की यह यात्रा सदैव जारी रहेगी।

स्वामी जी ने कहा कि मानव जीवन के लिये पर्यावरण सबसे महत्वपूर्ण घटक है और पर्यावरण की रक्षा हम सबकी जिम्मेदारी है। हर वर्ष बड़ी संख्या में पेड़ काटे जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर संपूर्ण मानवता का अस्तित्व प्रकृति पर ही निर्भर है इसलिए हमें समय रहते एक स्वस्थ एवं सुरक्षित पर्यावरण के निर्माण में मिलकर योगदान देना होगा।

12 अप्रैल, ऋषिकेश। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और माननीय मुख्यमंत्री उत्तराखंड श्री पुष्कर सिंह धामी जी की देहरादून में भेंटवार्ता हुयी। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने माननीय मुख्यमंत्री जी को श्रीमद भगवत गीता की रिकॉर्डिंग ऑडियो कृति भेंट करते हुये कहा कि आप एक कर्मठ और कर्मयोगी योद्धा की तरह राज्य की समृद्धि और विकास हेतु निरंतर कार्य कर रहें है और आप युवाओं के प्रेरणास्रोत है।

श्रीमद भगवद गीता आॅडियो कृति के माध्यम से भगवत गीता के दिव्य श्लोकों और संदेशों को कहीं भी और कभी भी सुना जा सकता है। भगवत गीता के माध्यम से भगवान श्री कृष्ण के संदेश उत्तराखंड और पूरे देश की समृद्धि और विकास के लिये माननीय मुख्यमंत्री जी के जीवन में रचा-बसा रहे ऐसी माँ गंगा से प्रार्थना।

स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि भगवत गीता का संदेश सब के लिये है और सदा के लिये है। यह केवल बाहर की नहीं बल्कि भीतर की समृद्धि का मार्ग भी प्रशस्त करता हैं। योगः कर्मसु कौशलम् अर्थात योग की इस पावन धरती पर कर्मों की कुशलता ही योग है। जिस प्रकार कर्मयोग के माध्यम से माननीय मुख्यमंत्री जी उत्तराखंड के विकास में लगे हुये हैं उसकी भूरि-भूरि प्रशन्सा करते हुये उन्हें परमार्थ निकेतन गंगा आरती में सहभाग हेतु आमंत्रित किया।

स्वामी जी ने कहा कि माननीय मुख्यमंत्री जी युवा हृदय के सम्राट है और यह यात्रा विराट तक पहंुचेगी, इससे उत्तराखंड ही नहीं पूरा राष्ट्र लाभान्वित होगा क्योंकि उत्तराखंड चारों धामों का राज्य है।
स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने श्री अरविंद वोहरा एचडीएफसी बैंक में ग्रुप हेड, कंट्री हेड – रिटेल ब्रांच बैंकिंग और पूरी टीम की प्रशन्सा करते हुये कहा कि एचडीएफसी बैंक और परमार्थ निकेतन दोनों मिलकर देढ़ लाख पौधोेें का रोपण उत्तराखंड राज्य में करेंगे ताकि हमारा प्यारा उत्तराखंड हरित उत्तराखंड हमेशा बना रहे।

श्री अरविंद वोहरा एचडीएफसी बैंक में ग्रुप हेड ने कहा कि परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी महाराज के मार्गदर्शन, नेतृत्व और आशीर्वाद से परमार्थ निकेतन से मिलकर पूरे उत्तराखंड में पौधों का रोपण करेंगे। परमार्थ निकेतन के सहयोग से पर्यावरण संरक्षण की यह यात्रा सदैव जारी रहेगी।

स्वामी जी ने कहा कि मानव जीवन के लिये पर्यावरण सबसे महत्वपूर्ण घटक है और पर्यावरण की रक्षा हम सबकी जिम्मेदारी है। हर वर्ष बड़ी संख्या में पेड़ काटे जा रहे हैं वहीं दूसरी ओर संपूर्ण मानवता का अस्तित्व प्रकृति पर ही निर्भर है इसलिए हमें समय रहते एक स्वस्थ एवं सुरक्षित पर्यावरण के निर्माण में मिलकर योगदान देना होगा।

Share Post