logo In the service of God and humanity
Stay Connected
Follow Pujya Swamiji online to find out about His latest satsangs, travels, news, messages and more.
H.H. Pujya Swami Chidanand Saraswatiji | | “HH Param Pujya Swamiji Responds to the Joshimath Crisis”, Aaj Tak
36316
post-template-default,single,single-post,postid-36316,single-format-video,edgt-core-1.0.1,ajax_fade,page_not_loaded,,hudson-ver-2.0, vertical_menu_with_scroll,smooth_scroll,side_menu_slide_from_right,blog_installed,wpb-js-composer js-comp-ver-7.0,vc_responsive

“HH Param Pujya Swamiji Responds to the Joshimath Crisis”, Aaj Tak

Jan 11 2023

“HH Param Pujya Swamiji Responds to the Joshimath Crisis”, Aaj Tak

As the residents of Joshimath continue to struggle to maintain their lives with dignity and resilience after the devastating landslides leveled homes and uprooted families, HH Param Pujya Swami Chidanand Saraswatiji offered His blessings and prayers in an @aajtak interview and suggested that “in the midst of this crisis, it is essential that – especially during the cold of winter – the affected families be moved to government facilities or ashrams while their homes are being relocated. And it is essential that we find permanent solutions to the natural disasters that Uttarakhand faces by developing sustainable communities and sustainable tourism.”

  • परमार्थ निकेतन आश्रम पूरी तरह से पहल करेगा की लोग यहाँ पर आकर रुकें ताकि उनको किसी भी तरह की कोई तकलीफ ना हो ।
  • अन्य संस्थाओं और आश्रमों को भी मदद के लिए आगे आना होगा.
  • जोशीमठ बड़ी एतिहासिक जगह है और अब हमें उसे सुरक्षित रखने हेतु ‘Green Tourism’ और ‘Green Development’ की तरफ कदम बढ़ाना होगा।
  • माननीय मुख्यमंत्री जी से इस बारे में जल्द ही चर्चा करेंगे कि लोगों की मदद हेतु पराली के बोर्ड से बने घर बनाए जाए जो की जल्दी बनेंगे और ये भूकंप, वर्षा, व दीमक आदि से बचाव भी करेंगे।
  • माननीय प्रधानमंत्री जी व मुख्यमंत्री जी इस पूरी स्थिति की निगरानी कर रहे हैं अतः निश्चित रूपेण जल्द ही कोई समाधान निकलेगा ।

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने ‘आज तक’ न्यूज चैनल के माध्यम से जोशीमठ में हो रहें भूस्खलन को लेकर वहाँ के लोगों को दिया संदेश, “आप लोगों को अभी धैर्य रखने की आवश्यकता है, आपका दर्द हम सबका दर्द है , हम सब एक परिवार है और हम मिलकर ही इस दर्द को बाटेंगे।”

Share Post