logo In the service of God and humanity
Stay Connected
Follow Pujya Swamiji online to find out about His latest satsangs, travels, news, messages and more.
H.H. Pujya Swami Chidanand Saraswatiji | | Admin
1
archive,paged,author,author-7nagpw6rmc25nkzh,author-1,paged-35,author-paged-35,edgt-core-1.0.1,ajax_fade,page_not_loaded,,hudson-ver-2.0, vertical_menu_with_scroll,smooth_scroll,side_menu_slide_from_right,blog_installed,wpb-js-composer js-comp-ver-7.0,vc_responsive

Author:Admin

Feb 22 2023

Bliss of Love

पूज्य स्वामीजी कहते हैं कि जब हम दिव्य प्रेम से भर जाते हैं, हम प्रेम को प्रकट करते हैं। प्रेम प्रकट करना अच्छी बात है परन्तु प्रेम, क्षणिक नहीं शाश्वत होना हो जिससे स्वयं को भी खुशी मिले तथा परिवार, प्रकृति, पर्यावरण व राष्ट्र का भी कल्याण हो। अपने राष्ट्र को प्रेम करें, अपनी धरती को प्रेम करें, सबको प्रेम बांटे परन्तु वह प्रेम, आध्यात्मिकता, सत्य और करूणा से युक्त हो। प्रेम हमारे सारे रोग दूर कर सकता है। स्वस्थ रहने का एकमात्र तरीका सभी से प्रेम करना है, विशेष...

Share Post
Feb 22 2023

International Day of Contemplation

22 फरवरी, ऋषिकेश। अन्तर्राष्ट्रीय चिंतन दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने ‘वैश्विक शांति’ हेतु श्रेष्ठ और सकारात्मक चिंतन का संदेश देते हुये कहा कि वैश्विक शान्ति की संपूर्ण विश्व को आवश्यकता है। वर्तमान समय में ऐसे चिंतन की आवश्यकता है जहां पर मानव हितों के साथ-साथ प्रकृति का भी संरक्षण हो। ‘वल्र्ड थिंकिंग डे’ के अवसर पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि “वसुधैव कुटुंबकम्”, शांति एवं सद्भाव भारतीय संस्कृति की मूल विशेषताएं रही हैं इस संस्कृति ने हमें...

Share Post
Feb 21 2023

International Mother Language Day

माँ, मातृभूमि और मातृभाषा ये तीनों ही संस्कारों की जननी हैं।’’ मातृभाषा हमें अपने मूल और मूल्यों से जोड़ती है। माँ से जन्म, मातृभूमि से हमारी राष्ट्रीयता और मातृभाषा से हमारी पहचान होेती है इसलिये जरूरी है कि हम कम से कम अपने घर-परिवार में अपनी मातृभाषा में ही वार्तालाप करें ताकि आने वाली पीढ़ियाँ भी भाषा के माध्यम से अपनी संस्कृति, संस्कार और मूल को जान सकंे। भाषाओं के संरक्षण के लिये अपनी भाषा को बोलने और उसे दिल से स्वीकारने की जरूरत है। अपनी भाषा, लिपि और अपनी...

Share Post
Feb 21 2023

International Mother Tongue Day

ऋषिकेश, 21 फरवरी। अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस के अवसर पर परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि ‘‘माँ, मातृभूमि और मातृभाषा ये तीनों ही संस्कारों की जननी हैं।’’ मातृभाषा हमें अपने मूल और मूल्यों से जोड़ती है। माँ से जन्म, मातृभूमि से हमारी राष्ट्रीयता और मातृभाषा से हमारी पहचान होेती है इसलिये जरूरी है कि हम कम से कम अपने घर-परिवार में अपनी मातृभाषा में ही वार्तालाप करें ताकि आने वाली पीढ़ियाँ भी भाषा के माध्यम से अपनी संस्कृति, संस्कार और मूल को जान सकंे। भारत की संस्कृति...

Share Post
Feb 21 2023

Gratitude!

"Being grateful makes you connected," declares HH Param Pujya Swami Chidanand Saraswatiji - Muniji in this beautiful video offering created especially for the recent Seva Celebrations honouring His 70th Birth Anniversary by Dawn Baillie and BLT Communications. "It makes you content. It keeps you humble. For me, every moment is gratitude. Every minute of my life is just by the grace of God!" Watch and listen to this inspiring and beautiful montage of Pujya Swamiji's divine life - a life filled with Sadhana, Seva, Surrender and Smiles. And so much gratitude!...

Share Post
Feb 20 2023

Musical Monday: Govind Bolo Hari Gopal Bolo

परम पूज्य स्वामी चिदानंद सरस्वतीजी - मुनिजी की मंत्रमुग्ध कर देने वाली दिव्य ध्वनि ही हमारी गंगा आरती को पवित्र, दिव्य एवं अलौकिक बनाती है। भजन’ भारतीय धार्मिक परंपरा की आत्मा है, भक्त अपने गायन के माध्यम से अपने आराध्य के प्रति पूर्ण समर्पण, भक्ति और भाव समर्पित करते हैं। ‘‘गोविंद बोलो हरि गोपाल बोलो,’’ भजन के माध्यम से आईये भगवान कृष्ण के श्रीचरणों में प्रेम और भक्ति को समर्पित करें। The serene and sublime voice of HH Pujya Swami ji is beloved by people around the world because His inspiring interpretations...

Share Post
Feb 20 2023

World Social Justice Day

ऋषिकेश, 20 फरवरी। आज के दिन को पूरे विश्व में ‘विश्व सामाजिक न्याय दिवस’ के रूप में मनाया जाता है। इसका उद्देश्य है सामाजिक न्याय को बढ़ावा देना तथा गरीबी, लैंगिक असमानता, बेरोजगारी को दूर कर मानव अधिकार, सामाजिक सुरक्षा और सतत विकास को बढ़ावा देना। सामाजिक न्याय से तात्पर्य है कि सभी राष्ट्रों को शांतिपूर्ण सह.अस्तित्व और सतत विकास के लिये प्रकृति अनुकूल आवश्यक सूत्रों का पालन करना। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि हिन्दू धर्म में न्याय दर्शन की अत्यन्त प्राचीन परम्परा रही है। वैदिक दर्शनों में षड्दर्शन...

Share Post
Feb 19 2023

Saluting the Birth Anniversary of Chhatrapati Shivaji Maharaj

अद्म्य साहस के धनी, योग्य सेनापति, कुशल राजनीतिज्ञ तथा महान शासक छत्रपति शिवाजी महाराज की जयंती पर नमन करते हुये पुज्य स्वामी जी ने भारतीय संस्कृति के मूल्यों, प्राचीन गौरवशाली सूत्रों, सिद्धान्तों एवं परंपराओं से जुड़े रहने के साथ ही अपने आप में निरंतर नवीनता का समावेश करने का दिया संदेश। While paying a heartfelt tribute to Chhatrapati Shivaji Maharaj on his birth anniversary! Pujya Swami ji shares the message of being connected to the values ​​of Indian culture, ancient glorious formulas, principles and traditions, and keeping innovations in your life....

Share Post
Feb 19 2023

Grand & Divine Maha Yamuna Aarti Held at Yamuna Chhath Ghat, Delhi

ऋषिकेश, 19 फरवरी। परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी एवं जीवा की अन्तर्राष्ट्रीय महासचिव साध्वी भगवती सरस्वती जी के पावन सान्निध्य और आशीर्वाद से आज यमुना छठ घाट, आईटीओ के पास दिल्ली में महाआरती का शुभारम्भ हुआ। विश्व विख्यात आध्यात्मिक सूफी गायक श्री कैलाश खेर ने अपने अनूठे व मनमोहक अन्दाज में आज यमुना जी की दिव्य और भव्य आरती का शुभारम्भ किया। इस अवसर पर माननीय राज्यसभा सांसद श्री नरेश बंसल जी, नेशनल मिशन फाॅर क्लीन गंगा - नमामि गंगे के डायरेक्टर जनरल श्री जी अशोक कुमार...

Share Post