logo In the service of God and humanity
Stay Connected
Follow Pujya Swamiji online to find out about His latest satsangs, travels, news, messages and more.
H.H. Pujya Swami Chidanand Saraswatiji | | Admin
1
archive,paged,author,author-7nagpw6rmc25nkzh,author-1,paged-22,author-paged-22,edgt-core-1.0.1,ajax_fade,page_not_loaded,,hudson-ver-2.0, vertical_menu_with_scroll,smooth_scroll,side_menu_slide_from_right,blog_installed,wpb-js-composer js-comp-ver-7.5,vc_responsive

Author:Admin

Oct 03 2023

Aatmnirbhar Bharat

“आज हर भारतीय का ध्यान भारत को आत्मनिर्भर बनाना होना चाहिए। हमें अपने गांवों और छोटे शहरों से शुरुआत करनी होगी। गाँव भारत की आत्मा हैं। भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिये हमें हमारे गाँवों को आत्मनिर्भर बनाना होगा|” - पूज्य स्वामी जी “The focus for every Indian today should be to make India Self reliant. This cannot be achieved overnight and we need to start with our villages and small towns. Villages are India's soul and hence making them self sufficient should be our first step.” -...

Share Post
Oct 03 2023

Pujya Swamiji Graces Saint Ishwar Samman 2023

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी, लोकसभा अध्यक्ष श्री ओम बिड़ला जी और अन्य विशिष्ट अतिथियों ने संत ईश्वर सम्मान में सहभाग कर अपना दिव्य उद्बोधन दिया। स्वामी जी ने सभी विशिष्ट अतिथियों को परमार्थ निकेतन की हरित भेंट रूद्राक्ष का दिव्य पौधा भेंट किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि भारत का इतिहास सेवा और त्याग के उदाहरणों से भरा पड़ा है। हमारे शास्त्रों में उल्लेख मिलता है कि नर सेवा ही नारायण की पूजा है यही जीवन का धर्म है। आदि काल से भारत में समाज...

Share Post
Oct 03 2023

Pujya Swamiji Graces Birth Centenary Festival of Most Revered Bhagwatbhushan Puranacharya Pandit Shri Srinath Shastri Shri Dada Guruji

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने परम पूज्य भागवतभूषण पुराणाचार्य पण्डित श्री श्रीनाथ शास्त्री श्री दादा गुरूजी जन्म शताब्दी महोत्सव ’’श्रीशा’’ में सहभाग कर सम्बोधित किया। इस दिव्य अवसर पर श्री धाम वृन्दावन में मलूक पीठाधीश्वर स्वामी श्री राजेन्द्रदास देवाचार्य जी के मुखारबिंद से श्रीमद् भागवत महापुराण कथा, श्रीमद्भागवत महापुराण के 335 अध्यायान्तर्गत 18,000 श्लोकों की 11 आवृति के साथ यज्ञाहुति तथा 17 पुराणों का दशांश हवन भी आयोजित किया गया। इस दिव्य कथा में स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी को मुख्य अतिथि के रूप में विशेष रूप से...

Share Post
Oct 02 2023

Gandhi Jayanti

On the auspicious occasion of Gandhi Jayanti, Pujya Swamiji's message beautifully captures the essence of Mahatma Gandhi's ideals. Gandhi Ji indeed embodied the principles of truthfulness, ahimsa (non-violence), and satyagraha (truth-force), viewing ahimsa as a natural law of humanity. The call to transition from a "greed culture" to a "need culture" and ultimately to a "green culture" reflects the importance of sustainable living and giving rather than constantly taking. It is a way of living and thinking that is not about taking more and more but about giving more and more....

Share Post
Oct 02 2023

Pujya Swamiji Graces Shiksha Bhushan Teacher Award ceremony

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने आज शैक्षिक फाउण्डेशन एवं अखिल भरतीय राष्ट्रीय शौक्षिक महासंघ द्वारा आयोजित शिक्षा भूषण-शिक्षक सम्मान समारोह में विशिष्ट अतिथि के रूप में सहभाग कर ’शिक्षक राष्ट्र का दीपक, गौरव और सम्मान’ विषय पर सम्बोधित किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी और माननीय सरकार्यवाह राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ श्री दत्तत्रेय होसबोले जी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी और भारत के दूसरे प्रधानमंत्री श्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती पर श्रद्धासुमन अर्पित किये। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि शिक्षा का भूषण मानव जीवन का...

Share Post
Oct 01 2023

Pujya Swamiji Graces World Friendship Forgiveness Day Celebration

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने विश्व मैत्री क्षमा दिवस समारोह में विशेष अतिथि के रूप में सहभाग किया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने सभी मुनिवरों को रूद्राक्ष का दिव्य पौधा भेंट कर सम्पूर्ण मानवता के साथ क्षमा व करूणायुक्त व्यवहार करने का संदेश दिया। स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने कहा कि जीवन में क्षमा दूसरों के लिये नहीं चाहिये बल्कि इसलिये चाहिये कि हमें शान्ति मिल सके; हम अपने जीवन को शान्तिपूर्वक जी सके। यदि हम चाहते है कि हमें अवसाद न हो, बीमारी न हो और रात्रि...

Share Post
Sep 29 2023

Pitra Paksha: spiritual and scientific aspects of Indian traditions

Pujya Swamiji's message beautifully highlights the significance of Pitra Paksha in honoring departed ancestors and preserving traditional values. Understanding both the spiritual and scientific aspects of Indian traditions can indeed contribute to the development of a sustainable and culturally rich civilization for future generations. This holistic approach not only respects our heritage but also helps protect the environment, promoting a harmonious coexistence with nature....

Share Post
Sep 29 2023

Pujya Swamiji Chief Guest at Shri Mota Ambaji Inauguration Ceremony

परमार्थ निकेतन के अध्यक्ष स्वामी चिदानन्द सरस्वती जी ने श्री अंबा जी आश्रम ‘‘श्री मोटा अंबाजी’’ जगत जननी अंबा भवानी मन्दिर के नूतनीकरण मन्दिर के शुभारम्भ अवसर पर मुख्य अतिथि के रूप में विशेष रूप से सहभाग कर संदेश दिया कि शक्ति ब्रह्माण्ड की ऊर्जा का स्रोत है। शक्ति है तो संस्कृति है, शक्ति है तो प्रकृति है। श्री मोटा अंबाजी मन्दिर के इतिहास के विषय में जानकारी देते हुये स्वामी जी ने कहा कि वर्ष 1950 के आसपास भारत के पूर्व प्रधानमंत्री, गृहमंत्री एवं अन्य पदों को सुशोभित करने वाले...

Share Post
Sep 28 2023

Blessings on Ganesh Visarjan

Pujya Swamiji shares His blessings on the auspicious occasion of Ganesh Visarjan. He emphasizes the importance of preserving our traditions while being mindful of our impact on the environment. Celebrating festivals in an eco-friendly manner by using materials like cow dung or clay for Ganesh idols instead of non-biodegradable ones aligns with the principles of sustainability and reverence for nature. It's a call to reconnect with our cultural roots and protect Mother Nature simultaneously. Such practices contribute to cleaner and greener celebrations, fostering a harmonious coexistence between tradition and the...

Share Post